दिल्ली-यूपी में भीषण गर्मी, आईएमडी ने जारी किया रेड अलर्ट

नई दिल्ली :  देश में मौसम का मिजाज बदल रहा है। कई राज्यों में मानसून की बारिश शुरू हो गई है। वहीं, कुछ राज्यों में…

नई दिल्ली :  देश में मौसम का मिजाज बदल रहा है। कई राज्यों में मानसून की बारिश शुरू हो गई है। वहीं, कुछ राज्यों में मानसून की एंट्री के लिए अनुकूल परिस्थिति बन रही है। स्काईमेट वेदर के मुताबिक महाराष्ट्र छत्तीसगढ़ ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश और बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिमी हिस्से, पश्चिम बंगाल के गंगा के मैदानी इलाकों, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्से में मानसून आगे बढ़ रहा है।

वहीं अगले 3 दिनों के दौरान बिहार के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं. आने वाले तीन-चार दिनों में उत्तर भारत के कई राज्यों में बारिश के साथ तेज हवा चल सकती है।

देश की राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी का प्रकोप है। सोमवार को दिल्ली में अधिकतम तापमान 45.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो कि सामान्य से ज्यादा तापमान है। वहीं मौसम विभाग का अनुमान है कि कल से दिल्ली में गर्मी से राहत मिलनी शुरू हो सकती है। 19 जून से दिल्ली में तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है, जिससे भीषण गर्मी से कुछ राहत मिलने का अनुमान है। वहीं मौसम विभाग ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के लिए रेड अलर्ट जारी किया है, जो मंगलवार को भी लागू रहेगा। इस दौरान अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

दिल्ली में अधिकांश स्थानों पर सोमवार को भीषण गर्मी से लोग दो चार होते रहे. कई स्थानों पर लू चलता रहा। सफदरजंग वेधशाला ने अधिकतम तापमान 45.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो मौसम के औसत से 6.4 डिग्री अधिक है। सोमवार की सुबह भी गर्म रही और न्यूनतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 5.5 डिग्री अधिक है। पालम मौसम केंद्र ने अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो सामान्य से सात डिग्री अधिक था। वहीं नजफगढ़ वेधशाला ने अधिकतम तापमान 46.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो सामान्य से सात डिग्री अधिक है। मौ

सम विभाग ने मंगलवार को दिल्ली में कई स्थानों पर लू से लेकर भीषण लू की स्थिति के साथ आसमान साफ रहने का अनुमान जताया है। वहीं बुधवार के बाद एक नया पश्चिमी विक्षोभ उत्तर-पश्चिम भारत की ओर बढ़ेगा, जो राष्ट्रीय राजधानी को भी प्रभावित करेगा और गर्मी से राहत लेकर भी आएगा।

उत्तर प्रदेश में फिलहाल भीषण गर्मी पड़ रही है. लू का अलर्ट जारी है. लोगों का गर्मी से बुरा हाल है। राजधानी लखनऊ से लेकर प्रदेश के कई जिलों में भीषण गर्मी पड़ रही है। मौसम विभाग के मुताबिक 18 जून को पूर्वी यूपी में बारिश हो सकती है। उसके बाद 21 जून तक दोनों हिस्सों में बारिश के आसार हैं. नये पश्चिमी विक्षोभ का असर यूपी में भी दिखाई देने की उम्मीद है, जिसके कारण मौसम में बदलाव आएगा। मौसम विभाग का कहना है कि 18 जून से प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश होगी. बिहार से होते हुए मानसून यूपी की ओर बढ़ेगा।

राजस्थान के कई स्थानों पर सोमवार को दिन का तापमान सामान्य से एक डिग्री से लेकर 6.5 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया है। श्रीगंगानगर में अधिकतम तापमान 46.2 डिग्री सेल्सियस रहा, जो प्रदेश का सबसे गर्म स्थान रहा। यहां तापमान सामान्य से 4.9 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया। इसके अलावा पिलानी में दिन का तापमान 45.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो कि सामान्य से 6.5 अधिक है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा कि 19 जून तक ओडिशा के कुछ जिलों में गर्म और आर्द्र मौसम की स्थिति बनी रहेगी, जबकि गरज के साथ आंधी भी आ सकती है। मौसम विभाग ने 20 और 21 जून को कुछ स्थानों पर भारी वर्षा का पूर्वानुमान जताया है। आईएमडी ने कहा कि अगले चार दिनों के दौरान राज्य के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि प्रदेश में आठ जून को मानसून प्रवेश कर चुका था, लेकिन इसकी प्रगति धीमी रही है।

झारखंड में भी भीषण गर्मी पड़ रही है। हालांकि मंगलवार को सुबह राजधानी रांची समेत कई और जिलों में हल्की बारिश हुई। गौरतलब है कि मानसून के धीमा बढ़ने के कारण इस बार झारखंड में मानसून आने में देरी हो रही है। केरल में मानसून आने का समय एक जून है। इसके 12 से 15 दिनों के बीच झारखंड में मानसून आने का पूर्वानुमान रहता है। इस बार का मानसून मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्वानुमान से तीन दिन देरी से चल रहा है। फिलहाल, 20 मई तक तो झारखंड में मानसून के आने के संकेत नहीं दिख रहे हैं। मानसून की बारिश नहीं होने के कारण पलामू प्रमंडल के कई जिलों का अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेसि के आसपास चल रहा है। सोमवार को पलामू, गढ़वा व रामगढ़ में गंभीर लू की स्थिति रही। चतरा, लोहरदगा, लातेहार, जामताड़ा, देवघर, गिरिडीह, गोड्डा, पाकुड़ व हजारीबाग जिले में भी लू चली।